जिंदगी आसान हो जाएगी, सिर्फ याद रखें यह 4 फार्मूला

जिंदगी में जितने लोगों से आप मिलेंगे, उतनी ही विभिन्नताएं आपको मिलेंगी. हर किसी के अपने-अपने तौर-तरीके होते हैं, अपनी-अपनी समझ होती है, जिंदगी को जीने के अपने-अपने विचार होते हैं. जिनके तौर-तरीके या विचार हम से मेल खाते हैं, वो हमें अच्छे लगने लगते हैं या उन्हें हम अच्छे लगने लगते हैं; जिनसे मेल नहीं खाते वो हमें बुरे लगते हैं या उन्हें हम बुरे लगते है. बात यहीं ख़तम नहीं होती. अगर विचार नहीं मिलने से उनसे हमारा पीछा छूट जाए फिर तो कोई परेशानी ही नहीं. जिंदगी में परेशानी तब होने लगती है जब उनके साथ हमें वक्त गुजारना पड़ता है, उनके साथ हमें काम करना पड़ता है और तो और, जिनके साथ तालमेल नहीं बैठता उनके साथ जिंदगी भी जीनी पड़ती है.

यह भी पढ़ें – सेक्स के जादुई फ़ायदे जानकर दंग रह जायेंगें

सोचिये कितना मुश्किल है ये सब करना. जिसको हम पसंद नहीं करते हैं , उसके साथ जिंदगी जीनी पड़े, तो कितनी मुश्किलें आती होंगी. लेकिन अफ़सोस, हमारे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं होने के कारण ऐसा करना हमारी मजबूरी बन जाता है; ना चाहते हुए भी उस इंसान को जिंदगी में हमें बार-बार और हर रोज़ झेलना पड़ता है. उसकी मूर्खता, उसके भद्दे विचार या उसका आलसीपन या फिर ओवर स्मार्टनेस, हमें हर बार चुभते रहते हैं. फिरभी हम उफ़ तक नहीं कर पातें क्योंकि इससे बातों के बिगड़ने के चान्सेस और भी बढ़ जाते हैं. बर्दास्त जब हद से गुजर जाए तो खून के घूँट पीकर भी जिंदगी में उसका साथ देना पड़ता है.

नतीजा क्या होता है ?

अंत में जब सहनशीलता  बर्दास्त से बाहर हो जाती है, तब ब्लास्ट हो उठते हैं और जिंदगी में सबकुछ  बिखर चूका होता है. यहाँ कुछ लोग जो बर्दास्त करते रहते हैं, वो अंदर ही अंदर टूट चुके होते हैं. ऐसे लोग मानसिक रूप से हार मान कर उन्हीं हालात को अपना मुकद्दर समझ बैठते हैं, अपनी जिंदगी समझ बैठते हैं, और असहाय होकर परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढाल लेते हैं.

क्या यही जिंदगी है ?

परिस्थितियों के अनुसार ढलने वाले लोग क्या अपनी जिंदगी जी पाते हैं ? एक बेजान, बेचैन और जिल्लत भरी जिंदगी में ऐसे लोग खुश रह पाते हैं? क्या यही उनका मुकद्दर है? क्या यही उनकी जिंदगी है? जब भी किसी की ऐसी जिंदगी हम देखते हैं, ऐसे-ऐसे न जाने कितने ही सवाल मन में आने लगते हैं. इस तरह की जिंदगी किसी को ना जीनी पड़े, इसके लिए हम तरह-तरह की तरकीबें लगाने लगते हैं. खुशकिस्मती से अगर कोई कारगर तरकीब मिल गयी तब तो ठीक है, नहीं तो जिंदगी गुजर जाती है नर्क को झेलते-झेलते.

यह भी पढ़ें – Gender equality लैंगिक समानता जितनी अधिक उतना ही सेक्स

जिंदगी का फार्मूला

फॉर्मूले अक्सर कामयाब होते हैं. चाहे वह फार्मूला गणित का हो या फिजिक्स का या केमिस्ट्री का या फिर फार्मूला जिंदगी का. फार्मूला मिल जाए तो सब कुछ आसान लगने लगता है. तो क्या कोई फार्मूला जिंदगी को सवांरने के लिए भी है, जो ऐसी परिस्थितियों में हमारी मदद कर सके. बिलकुल है. हम सभी जानते हैं कि जहाँ प्रॉब्लम है वहां फार्मूला है. लेकिन फार्मूला मिलना आसान नहीं होता. जिन्होंने जिंदगी का फार्मूला ढूंढ लिया, उनकी जिंदगी खुशहाल और जो नहीं ढूंढ पाए उनकी जिंदगी बदहाल.

जिंदगी को सवारने का फार्मूला कैसे ढूंढें

हम आये दिन सोशल मीडिया के माध्यम से या व्हाट्सएप्प के माध्यम से ना जानें कितनी ही अच्छी-अच्छी बातें और मोटिवेशनल विचार पढ़ते हैं, लेकिन क्या हम इन्हें याद रख पाते हैं? मुझे पता है आपका भी जवाब ‘ना’ में ही होगा, क्योंकि यही हाल मेरा भी है और मैं समझता हूँ शायद सबका है. अपनी जिंदगी में जितनी बातें हम सुनते हैं, पढ़ते हैं, वो सभी बातें अगर हमें हमेशा याद रहे तो जिंदगी में हमें महान बनने से कोई नहीं रोक सकता. अब चूंकि बातें हम सुन या पढ़ लेते तो हैं, लेकिन इन्हें याद नहीं रख पाते और हमें पता भी नहीं होता कि हमारी जिंदगी की समस्याओं का फार्मूला इन्हीं किन्हीं विचारों में ही छुपा होता है.

यह भी पढ़ें – टीनएज गर्ल को लव के बारे में पता होना चाहिए ये बातें

कुछ बातें दिमाग में छप जाते हैं

हमारी जिंदगी में रोजाना हम कुछ न कुछ सुनते और पढ़ते रहते हैं, पर कहीं कोई बात ऐसी हमें देखने को या पढ़ने को मिल जाती है जो हमारे दिमाग में छप जाती हैं. कागज पर लिखी बातें मस्तिष्क पर उतर आती हैं. मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ. मुझे पढ़ने का बहुत शौक है. न जानें कितनी ही किताबें पढ़ चूका हूँ, पर विश्वास कीजिये उनमे से कुछ भी याद नहीं, न किताब, न किताब की बातें और न ही लिखने वाले का नाम. यही वजह है कि मैं सिर्फ एक ब्लॉग लिख रहा हूँ, नहीं तो मैं ही होता अमेरिका का प्रेसिडेंट. ये और बात है मोदी जी के कहने पर डोनाल्ड ट्रम्प को कोई मंत्रालय दे दिया होता. (जो बातें कहने में ख़ुशी मिले कह देनी चाहिए, हाँ ध्यान रहे आपकी उन बातों से किसी का नुक्सान न हो).

यह भी पढ़ें – लड़की क्या चाहती है

एक किताब पढ़ी थी. नाम याद नहीं. लिखने वाला कौन था, ये भी याद नहीं. अच्छी खासी मोटी किताब की सिर्फ चार बातें मुझे याद ही नहीं, बल्कि मेरी जिंदगी का फार्मूला बन चूका है. जब भी किसी इंसान के साथ असहज महसूस करता हूँ, आँखें बंद करके उन चार मन्त्रों का स्मरण करता हूँ. विश्वास कीजिये जिंदगी सहज बन जाती है.

वो चार फॉर्मूले हैं

जिंदगी का फार्मूला 1. He, who Not knows and Not knows that he Not knows .

जिंदगी का यह मंत्र जो शब्दों में उलझा हुआ है, इसपर गौर करेंगे तो आसानी से समझ आ जाएगा. इसे समझने में मुझे भी कुछ वक्त लगा था. जब समझा, तो मेरे जीने का तरीका ही बदल गया. लोगों की मूर्खतापूर्ण हरकतें जहाँ परेशान किया करती थी, अब उनकी उन्हीं हरकतों पर तरस आने लगा. यह फार्मूला हमें बता रहा है कि वह, जो नहीं जानता है और यह भी नहीं जानता, कि वह नहीं जानता है.

He, who Not knows and Not knows that he Not knows  is a fool, leave him.

यह भी पढ़ें – Body language से जानें महिलाओं के मन की बात

जैसे- कुछ लोग ऐसे होते हैं जो जानकारी के अभाव में गलत बोल रहे होते हैं. लेकिन आप जब उसे सही बात बताओ तो वह मानने को तैयार भी नहीं होते. वह अपनी बात पर ही अड़ा रहता है. उसे सही बात या सही तौर-तरीका आप कितनी भी अच्छी तरह से समझाएं, वह नहीं मानेगा. क्योंकि वह ये समझ रहा होता है कि उसे तो सब पता है. जिंदगी में ऐसे लोग आपको मिलते भी होंगे और आपके कुछ बताने पर आपको जवाब मिलता होगा “तुम मुझे क्या सिखाओगे, मुझे सब पता है”, मतलब वह नहीं जानता है और उसे ये भी नहीं पता कि वह नहीं जानता है. ऐसे लोगों के तो भगवान् ही मालिक हैं. उस इंसान के पीछे अपनी एनर्जी वेस्ट ना करें क्योंकि वह मुर्ख है. उसे उसके हाल पर ही छोड़ दें. क्योंकि जब आप उसे कुछ सिखाने जाएंगे तो जिंदगी भर प्रयास करने पर भी, आप कुछ सिखा तो नहीं पाएंगे, उल्टा आप ही उससे सीख लेकर वापस आएंगे.

जिंदगी का फार्मूला 2. He, who Not knows and knows that he Not knows .

वह व्यक्ति, जो नहीं जानता है और जानता है कि वह नहीं जानता है. यानी, जब आप उसे सही बात बताएँगे, तो वह उसे स्वीकार कर लेगा. सच जानने और समझने के बाद, उस व्यक्ति को इस बात का एहसास होता है कि उसे सही जानकारी नहीं है. अब ऐसे इंसान के साथ क्या करना चाहिए?

He, who Not knows and knows that he Not knows  is a simple, teach him.

जी हाँ, ऐसा व्यक्ति साधारण इंसान है. आपको जरूरत है ऐसे इंसान को सिखाने की और उसे समझाने की. वह स्वीकार कर लेगा और आपसे और भी बातें जानना चाहेगा. आपको चाहिए वैसे इंसान को जितना अधिक सिखा सकते हैं उसे सिखाएं. उदहारण के तौर पर ले लीजिये,  कोई इंग्लिश बोल रहा है, आपको पता है वह गलत बोल रहा है. वैसे व्यक्ति को हमें उसकी गलतियों को सुधारना और उसे सिखाना चाहिए क्योंकि उसे पता है कि उसे अंग्रेजी नहीं आती. ऐसे लोगों की गलतियों पर हसने के बजाये उसे सिखाएं. आपकी तरह उसकी भी जिंदगी संवर जायेगी.

यह भी पढ़ें – Teenage Love को ऐसे प्यार से handle करें

जिंदगी का फार्मूला 3. He, who knows and Not knows that he knows.

आपको याद होंगी रामायण की बातें, हनुमान जी को उनकी ताकत का एहसास दिलाया जाता था. उनसे कहा जाता था कि ‘हे प्रभु, आप ऐसा कर सकते हैं क्योंकि आपको ऐसा करने का वरदान है’ फिर हनुमान जी को भी लगता था, हाँ वो तो कर सकते हैं! फिर क्या? ‘जय श्री राम’.

यानी ऐसा व्यक्ति जो जानता है, लेकिन नहीं जानता कि वह जानता भी है. उसे अपनी ताकत और कैपेसिटी का पता नहीं होता. क्या करें ऐसे इंसान के साथ.

He, who knows and Not knows that he knows is asleep, awake him.

जी, बिलकुल सही. ऐसा इंसान सोया हुआ है. जैसे कुछ महीने पहले तक मुझे भी नहीं पता था कि मैं भी ब्लॉग लिख सकता हूँ. इस पर कभी सोचा भी नहीं था. ऐसा लगता था जैसे ब्लॉग लिखना बड़े-बड़े ज्ञानियों का काम है. मैं ठहरा एक साधारण शिक्षा वाला व्यक्ति. लेकिन जब कई ऐसे ब्लोग्स पढ़ने को मिलते थे जिन्हें पढ़कर उनकी गलतियों पर हंसी आती थी. फिर मुझे लगा ‘यार इससे बेहतर तो मैं ही लिख सकता हूँ’ फिर क्या ! शुरू हो गए.

यह भी पढ़ें – रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए इन से बचें

आपको ऐसे बहुत से लोग मिलते होंगे जिनके अंदर कई क्वालिटीज़ होती  हैं. लेकिन उसे पता नहीं कि उसके कोशिश करने पर वह बेहतर कर सकता है. अपनी काबीलियत की जानकारी के अभाव में, सेल्फ कॉन्फिडेंस के अभाव में, वह ऐसा नहीं कर पाता और उसकी सारी क्वालिटीज़ उसके अंदर ही दफ़न रह जाती हैं. हमें चाहिए वैसे इंसान की सोयी हुए क्वालिटीज़ को जगाये. उसे उसकी इम्पोर्टेंस बताएं. आपने ऐसे कई लोग देखे होंगे जिनमे कई सारी क्वालिटीज़ हैं, फिर भी वह जिंदगी भर ऑटो रिकशा चला रहे होते है.

जिंदगी का फार्मूला 4. He, who knows and knows that he knows.

जिंदगी में ऐसे लोगों का मिलना बहुत मुश्किल होता है. क्योंकि ऐसे लोग ही जिंदगी में  सफलता की ऊँचाई  पर विराजमान  होते हैं. उन्हें पता होता है कि वे क्या हैं. एक तो वह जानता है, और यह भी जानता है कि वह जानता है. अब देखिये, एक तो उस इंसान में क्वालिटीज़ हैं, और उसे उसके क्वालिटीज़ का भी पता है. ऐसा इंसान को क्या कहेंगे आप?

He, who knows and knows that he knows is a wise, follow him.

जी बिलकुल, ऐसे लोगों को ही बुद्धिमान कह सकते हैं. है न! जिंदगी में अगर ऐसे लोग मिलें तो उनका अनुसरण करना  चाहिए.

यह भी पढ़ें – Successful marriage tips – सफल विवाह के टिप्स

याद रखिये जिंदगी में हम कुछ बदलना चाहे तो सबसे आसान होता है खुद को बदलना. आपका जब भी ऐसे लोगों से पाला पड़े जिनकी बेवकूफी की वजह से आपको परेशानी हो रही हो, तो ऐसे में जिंदगी के ये चार मंत्रों को याद करें. मेरा मतलब है किसी और को बदलने से बेहतर इन फार्मूला को हमेशा याद रखें. जिंदगी आसान हो जाएगी.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s